The Power Of Habit in Hindi

The Power Of Habit in Hindi

 

अपनी इच्छित किसी भी आदत को अपनाना या छोड़ना सीखें।

 

 The Power of Habit Hindi

 
आपने एक निर्णय लिया है: अब कोई सिगरेट नहीं ! या यह की : कोई जंक फूड नहीं !
कुछ हफ़्ते के लिए, चीजें सही रूप से चलती हैं । आपको अपने ऊपर गर्व होता है। लेकिन फिर, एक दिन, लालसा अचानक आप पर हावी हो जाती है – और, इससे पहले कि आप इसे जान सकें  , आप अपनी पुरानी आदतों पर वापस आ जाते हैं।
आपका साथ भी ऐसा हुआ है ? यदि हां , तो आप पहले से ही आदतों की शक्ति को जानते हैं।
लेकिन आदतों की शक्ति कहाँ से आती है? जैसा कि आप लाइब्रेरी में मौजूद इस किताब में देखेंगे, आदतें मानव मस्तिष्क और मानसिकता में गहराई तक घर कर जाती है और हमारे जीवन को असंख्य तरीकों से प्रभावित करती हैं। और जब वे हमारे जीवन को पूरी तरह से प्रभावित कर रही होती हैं – तो कल्पना कीजिए  कि क्या हो अगर आपको पता लगे की आपको एक नई आदत के लिए दरवाज़ा खोलना है और दूसरी आदत को बहार निकलना है – क्यूंकि आदतें भी समस्याओं का कारण बन सकती हैं और यहां तक ​​कि जीवन भी बर्बाद कर सकती हैं।
सौभाग्य से, यह सीख कर की आदतें कैसे काम करती हैं, आप इस पर विजय पा सकते हैं । तो चलिए आदतों की दुनिया में डुबकी लगाते हैं और इसके रहस्य को जानते हैं !
hindipdflibrary.in में मौजूद इस किताब के सार में, आप सीखेंगे कि
  • प्रत्याशा आदत बनाने की जड़ क्यों है;
  • मार्शमॉलो का विरोध करना हमें आदतों के बारे में क्या बता सकते हैं; और
  • LATTE विधि क्या है।

 The Power of Habit – Point 1

आदतें सरल क्यू-रूटीन-रिवार्ड लूप हैं जो प्रयास को बचाते हैं।

1990 के दशक में, MIT के शोधकर्ताओं का एक समूह मस्तिष्क में किस तरह की आदतों का निर्माण होता है, इसके बारे में अधिक जानने के लिए चूहों का अध्ययन कर रहा था। चूहों को चॉकलेट के एक टुकड़े पर अपना रास्ता खोजना पड़ता था जो टी-आकार के भूलभुलैया के अंत में रखा गया था। विशेष उपकरणों का उपयोग करते हुए, शोधकर्ता चूहों की मस्तिष्क गतिविधि की निगरानी कर सकते थे जैसे ही उन्होंने चॉकलेट के लिए अपना रास्ता सूंघ लिया था ।
जब चूहों को पहली बार भूलभुलैया में रखा गया था, तो उनके मस्तिष्क की गतिविधि बढ़ गई थी। वे चॉकलेट को सूंघ सकते थे और उन्होंने इसकी खोज शुरू कर दी। जब शोधकर्ताओं ने प्रयोग को दोहराया , उन्होंने कुछ दिलचस्प देखा।
जैसा कि चूहों ने धीरे-धीरे सीखा कि चॉकलेट कहां था और याद किया कि वहां कैसे जाना है – सीधे और फिर बाएं – उनके मस्तिष्क की गतिविधि कम हो गई।
क्रियाओं के क्रम को स्वचालित दिनचर्या में मोड़ने की इस प्रक्रिया को “चकिंग” के रूप में जाना जाता है और यह सभी आदत गठन का आधार बनती है। इसकी विकासवादी भूमिका स्पष्ट और महत्वपूर्ण है: यह मस्तिष्क को ऊर्जा बचाने और सामान्य कार्यों को कुशलता से करने की अनुमति देता है।
इसलिए, एक जटिल कार्य भी पहली बार एकाग्रता की मांग करता है, जैसे कि भूलभुलैया में चॉकलेट का एक टुकड़ा ढूंढना या ड्राइववे से बाहर निकलना, और अंततः यह एक सहज आदत बन जाता है। वास्तव में, ड्यूक विश्वविद्यालय के एक शोधकर्ता द्वारा 2006 के एक पत्र के अनुसार, प्रत्येक दिन हम जो कार्य करते हैं, उनमें से 40 प्रतिशत आदत के आधार पर होते हैं।
bundle-pack-sale-hindipdflibrary
सामान्य तौर पर, किसी भी आदत को तीन-भाग के लूप में विभाजित किया जा सकता है:
सबसे पहले, आप बाहरी क्यू (संकेत )को महसूस करते हैं – उदहारण के रूप में , आपकी अलार्म घड़ी बज रही है। यह आपके मस्तिष्क की गतिविधि में एक समग्र स्पाइक बनाता है क्योंकि आपका मस्तिष्क यह तय करता है कि स्थिति के लिए कौन सी आदत उपयुक्त है।
अगला आता है रूटीन , जिसका अर्थ है कि आपके द्वारा इस विशेष क्यू (संकेत) का सामना करने के लिए उपयोग की जाने वाली गतिविधि। आप बाथरूम में जाते हैं और अपने दांतों को अपने मस्तिष्क की मदद से वास्तव में ऑटो-पायलट मोड पर ब्रश करते हैं।
अंत में, आपको एक इनाम मिलता है – जैसे सफलता की भावना और, इस मामले में, आपके मुंह में एक मिन्टी-फ्रेश सनसनी होती है । आपकी समग्र मस्तिष्क गतिविधि फिर से बढ़ जाती है क्योंकि आपका मस्तिष्क गतिविधि के सफल समापन को पंजीकृत करता है और क्यू(संकेत) और रूटीन (दिनचर्या) के बीच की कड़ी को मजबूत करता है।
आदतें अविश्वसनीय रूप से लचीली होती हैं। कुछ मामलों में, बहुत बड़ी मस्तिष्क क्षति वाले लोग भी अपनी पुरानी आदतों का पालन कर सकते हैं। 
उदहारण के लिए यूजीन पर को देखें , इंसेफेलाइटिस के कारण होने वाले गंभीर मस्तिष्क क्षति के साथ जीने वाला आदमी । जब उनसे उनके लिविंग रूम से रसोई की ओर जाने वाले दरवाजे की ओर इशारा करने को कहा गया, तो वह ऐसा नहीं कर सके । लेकिन जब उनसे पूछा गया कि भूख लगने पर वह क्या करेंगे, तो वे सीधे रसोई में चले गए और मौजूद अलमारियों में से एक अलमारी से नट का एक जार निकाला।
यूजीन ऐसा इस लिए कर सके क्योंकि सीखने और आदत को बनाए रखने की प्रक्रिया बेसल गैन्ग्लिया में होती हैं, मस्तिष्क में एक ऐसा हिस्सा जहाँ छोटा सा न्यूरोलॉजिकल ढांचा होता है | भले ही मस्तिष्क के बाकी हिस्सों को नुकसान पहुंचा हो, लेकिन बेसल गैन्ग्लिया सामान्य रूप से कार्य कर सकती है।
दुर्भाग्य से, इस लचीलेपन का अर्थ यह भी है कि, भले ही आप धूम्रपान जैसी बुरी आदत को सफलतापूर्वक लात मार दें, लेकिन फिर भी आपको हमेशा उस आदत पर वापिस जाने का खतरा है ।

 The Power of Habit – Point 2

आदतें इसलिए बनी रहती हैं क्योंकि वे लालसा (Craving) पैदा करती हैं।
इस परिदृश्य की कल्पना करें: पिछले साल से हर दोपहर, आपने अपने कार्यस्थल पर कैफेटेरिया से एक स्वादिष्ट, चीनी से लदी चॉकलेट-चिप कुकी खरीदी और खाई है । इसे एक कठिन दिन के काम का उचित प्रतिफल मान सकते हैं ।
दुर्भाग्य से, आपके कुछ दोस्तों ने आपको कहना शुरू कर दिया है कि , आपका वज़न बढ़ना शुरू हो गया है। तो आप आदत को छोड़ने या अगर आक्रामक भाषा में कहें तो लात मारने का फैसला करते हैं । लेकिन क्या आप कल्पना कर सकते हैं कि दोपहर को बिना चॉकलेट के कैफेटेरिया से बाहर से गुज़रते हुए आपको कैसा महसूस होगा? संभावना है की या तो आप  “सिर्फ एक और कुकी” खाएंगे या आप एक अलग से क्रोधी मूड में घर जाएंगे।
एक बुरी आदत को मारना कठिन है क्योंकि आदत पाश के अंत में आप इनाम की लालसा विकसित कर चुके हैं। 1990 के दशक के न्यूरोसाइंटिस्ट वुल्फराम शुल्त्स द्वारा किए गए शोध से पता चलता है कि यह सब मस्तिष्क के स्तर पर कैसे काम करता है। शुल्ट्ज , जूलियो नामक एक मकाक बंदर की मस्तिष्क गतिविधि का अध्ययन कर रहे थे , जो विभिन्न कार्यों को करना सीख रहा था। 
एक प्रयोग में, जूलियो को एक स्क्रीन के सामने एक कुर्सी पर रखा गया था। जब भी स्क्रीन पर कुछ रंगीन आकृतियाँ दिखाई गईं, जूलियो का काम एक लीवर को खींचना था। जब उसने किया, एक बूंद ब्लैकबेरी रस (जूलियो को ब्लैकबेरी रस पसंद था) एक ट्यूब के माध्यम से उसके होठों पर टपक जाएगा।
सबसे पहले, जूलियो ने स्क्रीन पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया। लेकिन जब वह सही समय पर लीवर को खींचने में कामयाब हुआ , तो इस तरह ब्लैकबेरी-जूस के इनाम को उसके दिमाग में ट्रिगर किया गया, इससे उसकी मस्तिष्क गतिविधि तेज़ हो गई जो की एक मज़बूत खुशी की प्रतिक्रिया दिखा रही थी ।
जैसा कि जूलियो ने धीरे-धीरे स्क्रीन पर आकृतियों को देखने, लीवर को खींचने और ब्लैकबेरी का रस प्राप्त करने के बीच के संबंध को समझा, उन्होंने न केवल स्क्रीन पर देखा, बल्कि शुल्ट्ज़ ने देखा कि जैसे ही आकृतियाँ दिखाई दीं, जूलियो के मस्तिष्क में एक स्पाइक आ गई और यह उसी गतिविधि के समान थी जब वह वास्तव में इनाम प्राप्त करता है। दूसरे शब्दों में, उसके मस्तिष्क ने इनाम की आशा करना शुरू कर दिया था। यह प्रत्याशा लालसा का न्यूरोलॉजिकल आधार है और यह समझाने में मदद करता है कि आदतें इतनी शक्तिशाली क्यों हैं।
शुल्त्स ने फिर प्रयोग को बदल दिया। अब, जब भी जूलियो ने लीवर को खींचा, या तो कोई रस नहीं आएगा या यह पतले रूप में आएगा। जूलियो के मस्तिष्क में, शुल्त्स अब इच्छा और हताशा से जुड़े न्यूरोलॉजिकल पैटर्न का निरीक्षण कर सकते थे। जूलियो को निश्चित रूप से हताशा प्राप्त हुई जब उसे उसका इनाम नहीं मिला, ठीक उसी तरह जैसे आपको हुई थी जब आपको दिन के अंत तक कुकी को न खाने पर मिलती ।
अच्छी खबर यह है कि लालसा अच्छी आदतें बनाने के लिए भी काम करती है। उदाहरण के लिए, न्यू मैक्सिको स्टेट यूनिवर्सिटी के 2002 के एक अध्ययन से पता चला है कि जो लोग आदतन व्यायाम करते हैं, वे वास्तव में व्यायाम से कुछ पाने के लिए तरसते हैं, यह मस्तिष्क में एक एंडोर्फिन रश हो सकता है , उपलब्धि की भावना या व्यायाम के बाद कुछ ख़ास करने की अनुमत हो सकती है । यह लालसा ही है जो आदत को मजबूत करती है; अकेले संकेत और पुरस्कार पर्याप्त नहीं हैं।
आदतों की शक्ति को अगर समझें तो , यह कोई आश्चर्य की बात नहीं होनी चाहिए कि कंपनियां उपभोक्ताओं को समझने और उनमें खुद की आदत बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करती हैं। इस रणनीति के एक अग्रणी क्लॉड हॉपकिंस हैं, जो एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्होंने पेप्सोडेंट टूथपेस्ट को तब लोकप्रिय किया जब अनगिनत अन्य टूथपेस्ट ब्रांड असफल हो गए थे। उन्होंने एक ऐसा पुरस्कार प्रदान किया जो लालसा पैदा करता है: अर्थात्, एक शांत, सनसनाहट जिसकी उम्मीद हम करते हैं जब भी हम उस टूथपेस्ट का इस्तेमाल करते हैं । इस सनसनी ने न केवल यह “साबित” किया कि इस उत्पाद ने उपभोक्ताओं के दिमाग में काम किया है ; बल्कि यह एक वास्तविक प्रतिफल भी बन गया कि जिसके लिए ग्राहक तरसने लगे।

 The Power of Habit – Point 3

एक आदत को बदलने के लिए, अपनी दिनचर्या को दूसरे से स्थानापन्न करें और परिवर्तन में विश्वास करें।

जैसा कि सिगरेट छोड़ने की कोशिश करने वाला कोई भी व्यक्ति आपको बताएगा, जब निकोटीन हिट की लालसा होती है, तो इसे अनदेखा करना बहुत मुश्किल होता है। इसलिए किसी भी आदत को छोड़ने का सुनहरा नियम यह है: लालसा का विरोध करने की कोशिश मत करो; इसे पुनर्निर्देशित करें। दूसरे शब्दों में, आपको समान संकेत और पुरस्कार रखने चाहिए, लेकिन लालसा के परिणामस्वरूप होने वाली उस दिनचर्या को बदल दें।
पूर्व धूम्रपान करने वालों पर किए गए कई अध्ययनों से पता चला है कि, धूम्रपान की आदत के आस-पास के संकेतों और पुरस्कारों की पहचान करके और उनकी दिनचर्या को एक समान इनाम के साथ प्रतिस्थापित करना, जैसे कि कुछ पुश-अप्स करना, निकोलेट का एक टुकड़ा खाना या बस कुछ समय के लिए आराम करने से धूम्रपान मुक्त रहने की संभावना काफी बढ़ जाती है।
एक संगठन जो इस पद्धति पर बहुत प्रभाव डालता है, वह है एल्कोहॉलिक्स एनोनिमस (एए), जिसने अब दस मिलियन शराबियों की मदद की है।
एए प्रतिभागियों से यह कहते हैं कि वे एक सूची बनाएँ की उन्हें शाराब पीने से किस चीज़ की लालसा होती है। आमतौर पर, छूट और साहचर्य जैसे कारक वास्तविक नशा की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण होते हैं। एए तब नई दिनचर्या प्रदान करता है जो उन लालसा को संबोधित करता है, जैसे कि मीटिंग में जाना और साहचर्य के लिए प्रायोजकों से बात करना। विचार यह है कि पीने को किसी कम हानिकारक कार्य के साथ प्रतिस्थापित किया जाए।
bundle-pack-sale-hindipdflibrary
हालांकि, एए सदस्यों पर किए गए शोध से पता चलता है कि, हालांकि यह विधि सामान्य रूप से अच्छी तरह से काम करती है, लेकिन यह अकेले पर्याप्त नहीं है। 2000 के दशक की शुरुआत में, कैलिफोर्निया के अल्कोहल रिसर्च ग्रुप के शोधकर्ताओं के एक समूह ने AA सदस्यों के साथ अपने साक्षात्कार में एक अलग पैटर्न देखा। सबसे ज्यादा बताई गई प्रतिक्रिया यह थी कि आदत-प्रतिस्थापन विधि ने अद्भुत रूप से काम किया, लेकिन, जैसे ही एक तनावपूर्ण घटना होती थी, तब पुरानी आदत का विरोध करना बहुत कठिन हो जाता था , भले ही कार्यक्रम में प्रतिभागी कितनी भी देर इस कार्यक्रम में रहा हो ।
उदाहरण के लिए, जब एक शराबी जो ठीक हो गया था , तब उसकी माँ ने उसे अपने कैंसर होने की बात कही तो वह उदास हो गया । फ़ोन रखने के बाद, वह काम से बहार निकला  और सीधे एक बार में चले गया, और फिर, उसी के शब्दों में कहें तो , “अगले दो वर्षों के लिए नशे में रहा ।”
आगे के शोध ने संकेत दिया है कि जो लोग तनाव का विरोध करते हैं और शांत रहते हैं वे अक्सर उम्मीद पर भरोसा करते हैं। यही कारण है कि आध्यात्मिकता और भगवान एए के शास्त्र में प्रमुखता से शामिल हैं। लेकिन जरूरी नहीं कि केवल धार्मिकता का अंग ही है जो लोगों को शांत और नशा मुक्त रहने में मदद करता है। ईश्वर पर विश्वास करने से प्रतिभागियों को अपने लिए बदलाव की संभावना पर विश्वास करने में मदद मिलती है, जो तनावपूर्ण जीवन की घटनाओं के सामने उन्हें मजबूत बनाता है।

 The Power of Habit – Point 4

परिवर्तन मुख्य आदतों और छोटी जीत हासिल करने पर ध्यान केन्द्रित कर प्राप्त किया जा सकता है।

जब पूर्व सरकारी नौकरशाह पॉल ओ ‘नील 1987 में घाटे में चल रही एल्युमिनियम कंपनी एलको के सीईओ बने, तो निवेशक संदेह में थे । और मैनहट्टन में एक लक्जरी होटल में निवेशक की बैठक के दौरान ओ’नील ने किसी मामले में सुधार नहीं किया, बल्कि उन्होंने घोषणा की कि मुनाफे और राजस्व पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, उन्होंने कार्यस्थल की सुरक्षा को अपनी नंबर-एक प्राथमिकता बनाने का इरादा किया है । एक निवेशक ने तुरंत अपने ग्राहकों को बुलाया और कहा, “बोर्ड ने एक पागल आदमी को नौकरी पर रख लिया है और वह कंपनी को डूबाने जा रहा है।”
ओ’नील ने दिलचस्पी न रखने वाले निवेशकों को अपने तर्क को समझाने की कोशिश की। उन्होंने कहा कि चाहे जितनी भी बातें कर लें , लेकिन इससे अल्कोआ के नुक्सान की दरों में कोई कमी नहीं होगी। निश्चित रूप से, अधिकांश सीईओ ने कार्यस्थल सुरक्षा के बारे में देखभाल करने का दावा किया । लेकिन खाली शब्द कभी कंपनी-व्यापी आदत को नहीं बना पाते , जो वास्तविक परिवर्तन के लिए आवश्यक है ।
ओ’नील को पता था कि संगठनों में आदतें मौजूद होती हैं। और वह जानते थे कि किसी संगठन की दिशा को  बदलने के लिए उसकी आदतों को बदलना होगा । वह यह भी जानते थे कि सभी आदतें एक समान नहीं होती हैं। कुछ आदतें, जिन्हें कि-स्टोन आदतों के रूप में जाना जाता है, वह आदतें दूसरों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण हैं क्योंकि उनका पालन करने से सकारात्मक प्रभाव पैदा होता है जो कम्पनी के अन्य क्षेत्रों में फैलता है ।
यह सुनिश्चित करने से कि वर्कर की सुरक्षा प्राथमिकता है , प्रबंधकों और कर्मचारियों को यह सोचना होगा कि विनिर्माण प्रक्रिया कैसे सुरक्षित हो सकती है और कैसे सुरक्षा सुझावों को सभी के लिए सर्वोत्तम रूप से सूचित किया जा सकता है। इसका अंतिम परिणाम अधिक लाभदायक होगा जिससे उत्पादन संगठन अत्यधिक सुव्यवस्थित होगा और इससे कम्पनी सकारात्मक रूप से आगे बढ़ेगी ।
निवेशकों की शुरुआती शंकाओं के बावजूद, ओ’नील का दृष्टिकोण एक बड़ी सफलता साबित हुआ। 2000 में जब ओ’नील सेवानिवृत्त हुए, तब तक एल्को की वार्षिक आय में पाँच गुना की वृद्धि हुई ।
की-स्टोन आदतें व्यक्तियों को भी बदलने में मदद कर सकती हैं। उदाहरण के लिए, रिसर्च से पता चलता है कि मोटे लोगों को उनकी जीवनशैली में बदलाव लाने के लिए प्रेरित करने में मुश्किल होती है और अगर बदलाव आ भी जाए तो इसमें बहुत समय लगता है । हालांकि, जब मरीज एक की-स्टोन आदत विकसित करने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, जैसे कि एक सावधानीपूर्वक भोजन शैली रखने पर, तो अन्य सकारात्मक आदतें भी जन्म लेने लगती हैं।
की-स्टोन आदतें छोटी जीत प्रदान करते हुए काम करती हैं – अर्थात्, शुरुआती सफलताएं जिन्हें प्राप्त करना काफी आसान होता है। एक कीस्टोन आदत विकसित करने से आपको यह विश्वास करने में मदद मिलती है कि जीवन के अन्य क्षेत्रों में भी सुधार संभव है, जो कि सकारात्मक बदलाव के एक झरने की शुरुवात कर सकता है।

 The Power of Habit – Point 5

इच्छाशक्ति(willpower) सबसे महत्वपूर्ण की-स्टोन आदत है।

1960 के दशक में, स्टैनफोर्ड के शोधकर्ताओं ने एक ऐसी रचना की जो बहुत प्रसिद्ध अध्ययन बन गया। चार साल के बच्चों के एक बड़े समूह को , एक-एक करके, एक कमरे में लाया गया। कमरे में, एक मेज थी और उस पर मार्शमॉलो रखे हुए थे । शोधकर्ता ने प्रत्येक बच्चे को एक विकल्प दिया: या तो अब मार्शमॉलो खाओ या कुछ मिनट प्रतीक्षा करें और एक के बजाय दो मार्शमॉलो खा सकते हैं। इसके बाद शोधकर्ता 15 मिनट के लिए कमरे से बाहर निकल गए । केवल 30 प्रतिशत बच्चे ने शोधकर्ता की अनुपस्थिति में मार्शमैलो को नहीं खाया ।
लेकिन यहां एक दिलचस्प बात है । जब, वर्षों बाद, शोधकर्ताओं ने अध्ययन के प्रतिभागियों को ट्रैक किया, जो अब वयस्क थे, उन्होंने पाया कि जिन लोगों ने सबसे बड़ी इच्छाशक्ति का प्रदर्शन किया था और पूरे 15 मिनट इंतजार किया था, वे स्कूल में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे थे ,और औसतन अधिक लोकप्रिय थे। उनके ड्रग एडिक्ट होने की संभावना कम थी। ऐसा पता चला कि इच्छाशक्ति(willpower), एक की-स्टोन आदत थी जिसे जीवन के अन्य हिस्सों में भी लागू किया जा सकता है।
हाल ही में किए गए अध्ययनों ने समान परिणाम दिखाए हैं। उदाहरण के लिए, आठवीं-कक्षा के छात्रों पर 2005 में किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि उच्च स्तर की इच्छाशक्ति का प्रदर्शन करने वाले छात्रों के पास औसतन बेहतर ग्रेड थे और वे चयनात्मक स्कूलों में जाने की अधिक संभावना रखते थे।
तो इच्छाशक्ति जीवन की एक प्रमुख आदत है। लेकिन, आपने देखा होगा कि यदि आपने जब कभी व्यायाम शुरू करने की कोशिश की है, तो इच्छाशक्ति डगमगा सकती है। किसी किसी दिन , जिम जाना बहुत ही आसान कार्य हो सकता है ; दूसरी ओर , किसी दिन सोफे से बहार निकलना असंभव हो सकता है। ऐसा क्यों होता है?
यह पता चला है कि इच्छाशक्ति वास्तव में एक मांसपेशी की तरह है: यह थक सकती है। अगर आप इसे एक थकाने वाले काम पर मेहनत कर इसे ख़त्म कर देते हैं , तो , आपके पास घर पहुंचने पर कोई इच्छाशक्ति नहीं बचेगी । लेकिन सादृश्य इससे भी आगे जाता है: उन आदतों में संलग्न होकर जो संकल्प की मांग करते हैं – जैसे, सख्त आहार का पालन करना – तो आप वास्तव में अपनी इच्छा शक्ति को मजबूत कर सकते हैं। इसे इच्छाशक्ति की कसरत कह सकते हैं ।
अन्य कारक भी हैं जो आपकी इच्छाशक्ति को प्रभावित कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, स्टारबक्स ने पाया कि, अधिकांश दिनों में, उसके सभी कर्मचारियों में मुस्कुराहट और हंसमुख होने की इच्छाशक्ति थी, चाहे वे कैसा भी महसूस करें। लेकिन जब चीजें तनावपूर्ण होती थी – उदाहरण के लिए, जब एक ग्राहक चिल्लाने लगे – तो वे जल्द ही अपना आप खो देते थे ।अनुसंधान के आधार पर, कंपनी के अधिकारियों ने निर्धारित किया कि यदि कर्मचारी को मानसिक रूप से अप्रिय परिस्थितियों के लिए तैयार किया जाए और योजना बनाई जाए कि उस स्तिथि से कैसे निपटा जाए, तो वे दबाव में होने पर भी योजना का पालन करने के लिए पर्याप्त इच्छा शक्ति जुटा सकते हैं।
उनकी मदद करने के लिए, स्टारबक्स ने उपयुक्त तरीके से LATTE विधि विकसित की, जो तनावपूर्ण स्थिति में उठाने के लिए कई चरणों की एक श्रृंखला की रूपरेखा तैयार करती है: L – LISTENING यानी ग्राहक की बात सुनना, A – ACKNOWLEDGE यानी उनकी शिकायत को स्वीकार करना, T – TAKING ACTION मतलब कार्रवाई करना, T – THANKING यानी ग्राहक को धन्यवाद देना और अंत में, E  – EXPLAINING यानी यह बताना कि समस्या क्यों हुई। । इस पद्धति का बार-बार अभ्यास करने से, स्टारबक्स बैरिस्टस (कर्मचारी) सीखते हैं कि वास्तव में क्या करना चाहिए जब तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो, और उस समय में शांत कैसे रहें ।
अन्य अध्ययनों से पता चला है कि स्वायत्तता की कमी भी इच्छाशक्ति पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है। यदि लोग कुछ ऐसा कार्य करते हैं जो उनकी पसंद के बजाय आदेश के रूप में दिया जाता है, तो उनकी इच्छाशक्ति की मांसपेशी बहुत जल्दी थक जाएगी।

 The Power of Habit – Point 6

संगठनात्मक आदतें खतरनाक हो सकती हैं, लेकिन एक बड़ा संकट उन्हें बदल सकता है।

1987 के नवंबर में, लंदन के किंग्स क्रॉस स्टेशन पर एक यात्री ने एक टिकट कलेक्टर से संपर्क किया और कहा कि उसने बिल्डिंग के एस्केलेटर से एक जलते हुए ऊतक का एक टुकड़ा देखा है । मामले की जांच करने या अग्नि सुरक्षा के लिए जिम्मेदार विभाग को सूचित करने के बजाय, टिकट कलेक्टर ने कुछ नहीं किया। वह बस अपने कार्य केंद्र में लौट आया, यह सोचकर कि यह किसी और की जिम्मेदारी है।
यह शायद इतना आश्चर्यजनक नहीं था। लंदन भूमिगत को चलाने की जिम्मेदारियों को कई स्पष्ट क्षेत्रों में विभाजित किया गया था, और इसके परिणामस्वरूप, कर्मचारियों ने विभागीय सीमा के भीतर रहने की एक संगठनात्मक आदत बना ली थी। दशकों तक, मालिकों और उप-मालिकों की एक जटिल, पदानुक्रमित प्रणाली उभरी जो अपने हिस्से को लेकर काफी सुरक्षात्मक थे। लंदन अंडरग्राउंड के लगभग 20,000 कर्मचारी एक-दूसरे के इलाके का अधिक्रमण करना नहीं जानते थे।
अंदर से, अधिकांश संगठन इसी तरह हैं: युद्ध के मैदान, जिन पर व्यक्ति शक्ति और पुरस्कार के लिए संघर्ष करते हैं। इसलिए, शांति बनाए रखने के लिए, हम कुछ आदतों को विकसित करते हैं, जैसा कि अपने काम से काम रखना ।
टिकट कलेक्टर के काम पर लौटने के तुरंत बाद, टिकट हॉल में एक विशाल आग का गोला फट गया। लेकिन कोई भी व्यक्ति यह नहीं जानता था कि स्प्रिंकलर सिस्टम का उपयोग कैसे किया जाता है या आग बुझाने के यंत्र का उपयोग कैसे किया जाता है , इसका भी ज्ञान किसी को नहीं था । बचाव दल, जिन्हें अंततः स्टेशन पर कई कर्मचारियों द्वारा कार्य करने में मिली विफलताओं की एक लंबी श्रृंखला के बाद बुलाया गया था, ने बताया की यात्रि इतनी बुरी तरह से जल गए थे कि छूने पर उनकी त्वचा अलग हो रही थी । अंत में, 31 लोगों ने अपनी जान गंवा दी।
इस त्रासदी की मुख्य विफलता यह थी कि जिम्मेदारियों के वितरण की जटिल प्रणाली के बावजूद, लंदन अंडरग्राउंड में किसी भी कर्मचारी या विभाग पर यात्रियों की सुरक्षा के लिए अवलोकन जिम्मेदारी नहीं थी।
लेकिन इस तरह की त्रासदियों में भी कोई अच्छी चीज़ हो सकती है: बड़ा संकट आपातकालीन स्थिति प्रदान करके संगठनात्मक आदतों में सुधार करने का एक अनूठा मौका प्रदान करता है।
यही कारण है कि अच्छे नेता अक्सर सक्रिय रूप से संकट की भावना को लम्बा खींच देते हैं या इसे बिगाड़ देते हैं। किंग्स क्रॉस स्टेशन की आग की जांच में, विशेष जांचकर्ता डेसमंड फेनेल ने पाया कि कई जीवन बचाने वाले परिवर्तन वर्षों पहले प्रस्तावित किए गए थे, लेकिन कोई भी लागू नहीं किया गया था। जब फेनिल को अपने सुझावों के लिए प्रतिरोध का सामना करना पड़ा, तब भी, उन्होंने पूरी जांच को मीडिया सर्कस में बदल दिया – एक संकट जिसने उन्हें परिवर्तनों को लागू करने में सक्षम बनाया। आज, हर स्टेशन में एक प्रबंधक है जिसकी मुख्य जिम्मेदारी यात्री की सुरक्षा है।

 The Power of Habit – Point 7

कंपनियां अपनी मार्केटिंग में आदतों का फायदा उठाती हैं।

सोचिए की आप अपने स्थानीय सुपरमार्केट में चल रहे हैं । आप पहली चीज़ क्या देखेंगे ? संभावना है की , आप ताजा फल और सब्जियां देखेंगे जिन्हें एक सुन्दर तरीके से इक्कठा कर रखा गया है । यदि आप एक सेकंड के लिए मानें , तो यह सही नहीं लगता है। क्यूंकि फल और सब्जियां नरम होती हैं और कार्ट में डाले गए अन्य उत्पादों द्वारा आसानी से क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, इसलिए उन्हें रजिस्टरों (बिल बनाने वाला कर्मचारी) के करीब प्रदर्शित किया जाना चाहिए। लेकिन विपणक बहुत पहले ही समझ गए थे कि अगर हम अपनी गाड़ियों को ताज़ा, स्वस्थ वस्तुओं से भरकर खरीदारी शुरू करते हैं, तो हम अस्वस्थ उत्पादों को खरीदने की अधिक संभावना रखते हैं, जैसे कि हम शॉपिंग जारी रखते हुए स्नैक्स और कुकीज़ खरीद लेते हैं ।
यह बहुत स्पष्ट लग सकता है। लेकिन खुदरा विक्रेताओं ने ग्राहकों की खरीदारी की आदतों को प्रभावित करने के लिए बहुत अधिक सूक्ष्म तरीके निकाले हैं। उदाहरण के लिए, यहां एक आश्चर्यजनक तथ्य है: ज्यादातर लोग सहजता से एक दुकान में प्रवेश करते समय दाएं मुड़ते हैं। इसलिए खुदरा विक्रेताओं ने अपने सबसे लाभदायक उत्पादों को प्रवेश द्वार के दाईं ओर रखा।
यह तरीके भले ही जितने परिष्कृत हैं, लेकिन , उनकी एक बड़ी खामी है; वे सभी एक आकार और सभी को फिट वाली मानसिकता पर आधारित है और यह तरीके अलग-अलग ग्राहकों के खर्चने के व्यवहार में अंतर का हिसाब नहीं रख पाते । पिछले कुछ दशकों में, हालांकि, तेजी से परिष्कृत टेक्नोलॉजी और डेटा-संग्रह ने लुभावनी सटीकता के साथ ग्राहकों को टारगेट करना संभव बना दिया है । इस गेम के सच्चे मास्टर में से एक अमेरिकन रिटेलर टारगेट है, जो सालाना लाखों दुकानदारों को सेवा देता है और उनके  डेटा को एकत्र करता है।
2000 के दशक की शुरुआत में, कंपनी ने अपने डेटा की पूरी ताकत का इस्तेमाल आबादी के एक विशेष खंड को टारगेट करने के लिए किया , जो लम्बे समय से सबसे अधिक लाभदायक साबित हो रहा था और वह खंड है नए माता-पिता का । अपने प्रतिद्वंद्वियों पर पैर जमाने के लिए, हालांकि, लक्ष्य नए माता-पिता के लिए बाजार से अधिक करना था ; फिर भी लक्ष्य माता-पिता बनने से पहले ही उनके लिए बहुत अच्छा करने और उन्हें अपना एक विश्वासपूर्ण कस्टमर बनाने का था । इसे पूरा करने के लिए, मुख्य डाटा गर्भवती महिलाओं की खरीदारी की आदतों को निर्धारित करने के लिए बनाया गया था ।
अंत में, टारगेट के विश्लेषण ने इतनी अच्छी तरह से काम किया कि इसने हर उस गर्भवती किशोरी लड़की पर भी अपना काम किया जिसने अभी तक अपने परिवार को उसकी स्थिति के बारे में नहीं बताया था। टारगेट ने उन्हें बच्चों से संबंधित कूपन भेजे, जिसके कारण उसके पिता स्थानीय टारगेट प्रबंधक के साथ एक नाराज़गी भरी मुलाकात करने पर मजबूर हो गए : “वह अभी भी हाई स्कूल में है,” पिता ने कहा। “क्या आप उसे गर्भवती बनने के लिए प्रोत्साहित करने की कोशिश कर रहे हैं?” | जब सच्चाई सामने आई, तो पछता रहे पिता माफी मांगने के लिए विवश हो गया ।
लेकिन टारगेट ने जल्द ही महसूस किया कि लोगों को उनकी जासूसी होना पसंद नहीं आया । अपने बच्चों से सम्बंधित कूपन को काम में लाने के लिए उसने कूपन को लॉनमॉवर और वाइन ग्लास जैसी चीजों के लिए यादृच्छिक और असंबंधित ऑफ़र के बीच दफनाने का एक चतुर तरीका निकाला | इससे ऑफर परिचित, और अलग लग रहा था ।
वास्तव में, जब कुछ नया बेचने की कोशिश की जाती है, तो कंपनियां इसे मशहूर करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करेंगी। उदाहरण के लिए, रेडियो डीजे गारंटी कोशिश कर सकता है की एक न्य गाना लोकप्रिय हो जाए , इसके लिए वह हर दो गानों के बीच में इस गाने को बजाने की कोशिश करेगा । नई आदतें या उत्पाद कहीं अधिक स्वीकार्य हो जाते हैं यदि वे नए ना लगें ।
टारगेट को विपणन(marketing) के लिए अपने आक्रामक रवैये के लिए बहुत अधिक असफलता मिली, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह एक बड़ी सफलता नहीं थी। गर्भवती महिलाओं को टारगेट करने के अपने काम के बड़े हिस्से के कारण, कंपनी का राजस्व 2002 में $ 44 बिलियन से बढ़कर 2009 में $ 65 बिलियन का हो गया।
bundle-pack-sale-hindipdflibrary

 The Power of Habit – Point 8

आंदोलनों का जन्म मजबूत संबंधों, सहकर्मी दबाव और नई आदतों से हुआ है।

1955 में, रोजा पार्क्स नाम की एक अश्वेत महिला ने मॉन्टगोमरी, अलबामा में एक श्वेत व्यक्ति के लिए अपनी बस की सीट छोड़ने से इनकार कर दिया। उसे गिरफ्तार किया गया और आरोपित किया गया, और उसके बाद की घटनाओं ने उसे नागरिक-अधिकार का प्रतीक बना दिया।
दिलचस्प बात यह है की , उनका मामला, भले ही यह सबसे प्रसिद्ध हो गया है, लेकिन न तो यह कुछ अलग था और न ही पहला। कई अन्य लोगों को पहले भी इसके लिए गिरफ्तार कर लिया गया था। तो पार्क की गिरफ्तारी ने एक वर्ष से अधिक चलने वाले बसों के बहिष्कार को क्यों उकसाया?
सबसे पहली बात , रोजा पार्क को समुदाय में अच्छी तरह से पसंद किया गया था और उनके पास दोस्तों की असामान्य रूप से व्यापक सरणी थी। वह कई क्लबों और समाजों से जुडी हुई थी और प्रोफेसरों से लेकर फील्ड हैंड तक सभी प्रकार के लोगों से निकटता से जुड़ी हुई थी। मिसाल के तौर पर, वह स्थानीय NAACP चैप्टर की सचिव के रूप में सेवा करती थीं, उनका अपने घर के पास वाली लुथेरन चर्च के एक युवा संगठन से गहरा जुड़ाव था, और वह अपना खाली समय गरीब परिवारों को कपड़े बनाने की सेवा प्रदान करने में बिताती थीं, और यह सब तब जब वह गोरे परिवारों के युवा नवोदितों के लिए गाउन ठीक करने का काम कर रही थी । वास्तव में, वह अपने समुदाय में इतनी सक्रिय थी कि उनके पति द्वारा कभी-कभी यह कहा जाता था कि उसने घर से अधिक बार खाना पॉटलक्स पर खाया है ।
पार्क्स के पास समाजशास्त्र के अध्ययन में मजबूत संबंधों के रूप में जाने जानी वाली चीज़ थी  – अर्थात, उनके समुदाय के विभिन्न सामाजिक क्षेत्रों के बहुत से लोगों के साथ अच्छे संबंध। इन संबंधों ने न केवल उन्हें जेल से बाहर निकाल दिया ; उन्होंने मॉन्टगोमरी के सामाजिक स्तर पर उसकी गिरफ्तारी के शब्द फैलाए, और इस तरह बस के बहिष्कार को उकसाया गया ।
लेकिन उनके दोस्त अकेले एक लंबे समय तक बहिष्कार कायम नहीं रख सकते थे। साथियों द्वारा दवाब डाला गया । मजबूत संबंधों के अलावा, सामाजिक क्षेत्रों में कमजोर संबंध भी शामिल हैं, जिसका अर्थ है मित्रों के रूप में केवल जानकार । यह ज्यादातर कमजोर संबंधों के माध्यम से ही होता है जिसकी वजह से सहकर्मी से दवाब मिलता है । जब किसी व्यक्ति के मित्रों और परिचितों का बड़ा नेटवर्क एक आंदोलन का समर्थन करता है, तो इसे छोड़ना मुश्किल होता है।
आखिरकार, काले समुदाय (black community) में बहिष्कार की प्रतिबद्धता कम होने लगी, क्योंकि शहर के अधिकारियों ने बसों के बिना जीवन को कठिन बनाने के लिए नए कारपूलिंग नियमों की शुरुआत की। और इसी के बाद अंतिम घटक जोड़ा गया: डॉ. मार्टिन लूथर किंग जूनियर के एक भाषण में अहिंसा की वकालत करने और प्रतिभागियों को अपने उत्पीड़कों को गले लगाने और माफ करने के लिए कहा गया था। इस संदेश के आधार पर, लोगों ने नई आदतों का निर्माण करना शुरू कर दिया, जैसे कि स्वतंत्र रूप से चर्च की बैठकों का आयोजन और शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन। उन्होंने आंदोलन को एक आत्म-समर्थ बल बना दिया।

 The Power of Habit – Point 9

हम अपनी आदतों को बदलने की जिम्मेदारी उठाते हैं।

2008 में एक रात, ब्रायन थॉमस ने अपनी पत्नी की गला दबाकर हत्या कर दी। परेशान होकर उसने तुरंत खुद को अंदर कर लिया और उस पर हत्या का मुकदमा चला। उसका बचाव में? वह उस चीज़ का अनुभव कर रहा था जिसे वैज्ञानिकों को स्लीप टेरर्स के रूप में परिभाषित करते हैं ।
अनुसंधान से पता चला है कि, स्लीपवॉकिंग के विपरीत, जिसमें लोग बिस्तर से उठ सकते हैं और आवेगों से बाहर निकालना शुरू कर सकते हैं, जब कोई व्यक्ति स्लीप टेरर्स का अनुभव करता है, तो मस्तिष्क प्रभावी रूप से बंद हो जाता है, जिसमें केवल सबसे आदिम न्यूरोलॉजिकल क्षेत्र सक्रिय रहते हैं ।
जब वह इस स्तिथि में था, तो थॉमस ने सोचा कि वह एक ऐसे चोर का गला घोंट रहा है जो उसकी पत्नी पर हमला कर रहा था। अदालत में, बचाव पक्ष ने तर्क दिया कि तत्काल थॉमस ने सोचा कि कोई उसकी पत्नी को चोट पहुंचा रहा है, इसने स्वत: प्रतिक्रिया शुरू कर दी – उसकी रक्षा करने का प्रयास। दूसरे शब्दों में, उन्होंने एक आदत का पालन किया।
लगभग उसी समय, एंजी बैचमैन पर कैसीनो कंपनी हैराह द्वारा बकाया जुआ ऋण में आधा मिलियन डॉलर का मुकदमा दायर किया। यह सब तब हुआ जब वह पहले से ही अपने घर और अपनी मिलियन-डॉलर की विरासत से दूर हो गई थी।
अदालत में, बैचमैन ने तर्क दिया कि वह बस एक आदत का पालन कर रही थी। उसे जुआ अच्छा लगता था, इसलिए जब हर्रा ने कैसीनो की मुफ्त यात्राओं के लिए अपने लुभावने प्रस्ताव भेजे, तो वह विरोध नहीं कर सकी। (ध्यान दें कि हर्रा को पता था कि वह एक मजबूर जुआरी थी, जिसे पहले ही दिवालिया घोषित कर दिया था।)
अंत में, थॉमस को बरी कर दिया गया और ट्रायल जज सहित कई लोगों ने उसके लिए बहुत सहानुभूति व्यक्त की। दूसरी ओर, बछमन अपना केस हार गईं और वह काफी सार्वजनिक रूप से तिरस्कृत की गई एक वास्तु बन गईं थी ।
थॉमस और बाचमैन दोनों ही काफी प्रशंसनीय दावा कर सकते थे : “यह मैं नहीं था। यह मेरी आदतें थीं! ”तो उनमें से केवल एक को ही क्यों बरी किया गया?
काफी सरल है , एक बार जब हम एक हानिकारक आदत से अवगत हो जाते हैं, तो इस पर ध्यान देना और इसे बदलना हमारी जिम्मेदारी बन जाती है। थॉमस को नहीं पता था कि वह अपनी नींद में किसी को चोट पहुंचाएगा। हालांकि, बछमन को पता था कि उसे एक जुआ खेलने की आदत है, और एक निषेध कार्यक्रम में भाग लेने से हर्राह की पेशकशों से बचा जा सकता है जिससे जुआ कंपनियों को मार्केटिंग करने से रोका जा सकता है ।

 The Power of Habit – SUMMARY

अंतिम सारांश

hindipdflibrary.in की इस किताब का महत्वपूर्ण संदेश:
आदतों का पालन करना न केवल हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, बल्कि संगठनों और कंपनियों का भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। सभी आदतों में क्यू-रूटीन-रिवार्ड लूप शामिल है, और इसे बदलने का सबसे आसान तरीका यह है कि क्यू (संकेत) और पुरस्कार को वही रखते हुए रूटीन का कुछ और विकल्प देखें । जीवन में स्थायी परिवर्तन प्राप्त करना मुश्किल है, लेकिन यह इच्छाशक्ति जैसे महत्वपूर्ण की-स्टोन आदतों पर ध्यान केंद्रित करके किया जा सकता है।
कार्रवाई की सलाह:

हर सुबह अपना बिस्तर बनाएं।इस किताब में, आपने सीखा कि सभी आदतें समान नहीं हैं, लेकिन कुछ दूसरों की तुलना में अधिक शक्तिशाली हैं। एक ऐसी की-स्टोन आदत जिसे आप आसानी से अपना सकते हैं वह प्रत्येक दिन अपना बिस्तर बनाकर शुरू करना है। अनुसंधान ने दिखाया है कि यह आपकी सामान्य जीवन शैली को सुधार सकता है और आपकी समग्र उत्पादकता को बढ़ा सकता है।


क्यूंकि अब आप आदतों के विज्ञान के बारे में जान गए हैं और यह भी जान गए हैं की कैसे नईं अच्छी आदतें बने जा सकती हैं और कैसे हम पुराणी बुरी आदतों से छुटकारा पा सकते हैं, तो हम hindipdflibrary.in द्वारा आपके लिए तैयार की गयी हिंदी अनुवाद आपके समक्ष पेश कर रहे हैं | आप निचे दि गई इमेज पे क्लिक कर इसका हिंदी अनुवाद पा सकते हैं | 

Click Here To Download The Pdf Of The Power Of Habit

The Power Of Habit Hindi PDF BY hindipdflibrary.in
the-power-of-habit-hindi-pdf
आगे पढ़ने का सुझाव: रिचर्ड ओ’कॉनर रिव्यू द्वारा लिखी री-वायर 
री-वायर इस चीज़ के बारे में है कि हम कभी-कभी आत्म-विनाशकारी व्यवहार में क्यों पड़ते हैं, और इससे आगे कैसा बड़ा जाए । यह व्यसनों (लत) के पीछे मस्तिष्क की गतिविधि में जाता है और आपकी बुरी आदतों पर बेहतर नियंत्रण के लिए खुद को फिर से संगठित करने की रणनीतियों की रूपरेखा तैयार करता है। लाइब्रेरी में दी गई इस किताब को पढने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कीजिये ।     

One thought on “The Power Of Habit in Hindi

  1. यह एक प्रभाव शाली तथा काफी मोटीवेट करने वाली पुस्तक है
    इसके माध्यम से जीवन को एक नई दिशा दी जा सकती है
    Thank you

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top
error: Content of this website is protected !!