Who will Cry When You Die – Hindi Pdf – कौन रोएगा आपकी मृत्यु पर

Who Will Cry When You Die Hindi किताब से आप क्या सीख सकते हैं ? 

इस किताब को पढने के बाद आप खुद को सफल जीवन के अनुकूल बना सकते हैं और इसी के साथ आप दूसरों की मदद करना सीखेंगे ।

इस बात से कोई इंकार नहीं है कि हम एक तेज़-तर्रार दुनिया में रहते हैं जहाँ सब कुछ एक ही बार में होता है। हम लगातार एक दूसरे से जुड़े रहते हैं, और हमारा ध्यान खींचने की कोशिश में हमेशा कुछ नया रोमांच या रोमांच से भरी घटना मौजूद होती है। और इन विषम परिस्थितियों में, यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि वास्तव में कभी-कभी जीवन को सार्थक बनाने के बारे में सोचने के लिए रुकना और कदम वापस लेना मुश्किल हो जाता है । लेकिन यह सिर्फ आपके बारे में नहीं है। 

आत्म-सुधार हर रूप में अच्छा है, लेकिन वास्तव में सफल होने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने प्रियजनों, अपने समुदाय और पूरे समाज पर पड़ने वाले प्रभाव के बारे में सोचें।

इस पोस्ट में, आप सीखेंगे कि उद्देश्य वाला जीवन कैसे व्यतीत करना है। आप जानेंगे कि आप अपने आस-पास की दुनिया पर कैसे सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं, ताकि जब आप चले जाएं, तो सबको एक नुकसान निश्चित रूप से महसूस होगा।

इस पोस्ट में आप सीखेंगे की :

  • रोमन लोग व्यायाम के बारे में क्या सोचते थे;
  • अपने आवागमन को और अधिक उत्पादक और प्रभावशाली कैसे बनाया जाए; और
  • आप असल में व्यायाम के कारण कितने घंटे और जी पाएँगे ।
bundle-pack-sale-hindipdflibrary

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 1 

दृष्टिकोण बनाए रखने और आत्म-अनुशासन का अभ्यास करने से आपको एक सफल और खुशहाल जीवन जीने में मदद मिलेगी।

जीवन में कुछ ही ऐसी चीजें हैं जो आपके जन्म से अधिक आनंदमय होती हैं। जब आप पैदा हुए थे, तो आपका पहली बार रोना सबके लिए बहुत ख़ुशी प्रदान करने वाला पल था ।

जहां तक ​​लेखक का कहना है, यही वो भावनाएं हैं जिसके मार्गदर्शन से हमें चलना चाहिए भले ही हम कितने भी बड़े हो जाएँ । हमारा उद्देश्य जीवन को छोड़ते हुए सुखी और संपन्न महसूस करने का होना चाहिए। इस तरह, जब दूसरे जानेंगे की हमारी मृत्यु हो चुकी है, तो हमें और जीवन में हमारे द्वारा किए गए काम को याद करते हुए उनके आंसू दुख की बजाय खुशी के होंगे।

शुक्र है, कुछ ऐसे सरल जीवन नियम हैं जिनका पालन करके आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आप भी एक ऐसा जीवन जीएंगे जो आपके और आपके आस-पास के लोगों को लाभ पहुँचाए।

पहला सिद्धांत परिप्रेक्ष्य (दृष्टिकोण) बनाए रखना है।

प्रसिद्ध भौतिक वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग लोगों को एक साधारण कहानी बताना पसंद करते थे। और यह कहानी कुछ इस तरह से है – हम इंसान एक छोटे से ग्रह पर रहते हैं, जो एक बहुत ही साधारण तारे का चक्कर लगाता है, कहीं एक आकाशगंगा के किनारे पर जो सैकड़ों अरबों आकाशगंगा के बीच सिर्फ एक आम आकाशगंगा है।

वह मूल रूप से कह रहे है कि हमें कुछ परिप्रेक्ष्य (दृष्टिकोण) बनाने करने की आवश्यकता है और यह दृष्टिकोण है की : चीजों को इतनी गंभीरता से न लें।

अब, यह मत सोचिए कि आपको इसे हासिल करने के लिए अपने मन की गहराई में जाने की आवश्यकता है। आप जीवन में अपनी नई दिशा काफी व्यावहारिक रूप से शुरू कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, मान लें कि आपके किसी एलेवेटर (लिफ्ट) के पास पहुंचने पर कोई आपके लिए दरवाज़ा नहीं रोकता है। कभी-कभी, इस तरह की एक छोटी सी चीज़ भी आपको क्रोध में डालने के लिए पर्याप्त होती है और यह सोचने पर मजबूर कर देती है की कोई आपका कैसे सम्मान करता है।

लेकिन आपको यह सोचने की जरूरत नहीं है। इसका सबसे अच्छा जवाब परिप्रेक्ष्य यानी अपने दृष्टिकोण को स्थानांतरित करना है और यह महसूस करना है कि इस सारी चीज़ का आपसे कोई लेना देना नहीं है । संभावना यह है कि लिफ्ट उपयोगकर्ता का शायद ध्यान नहीं था या वह खराब मूड में था।

इस चीज़ पर ज्यादा ध्यान न दें । आप केवल अपने दिन के बारे में पूरे आशावादी होकर उस दिन का पूरा लाभ उठाएं । अपने स्वयं के रोष में खोए रहने के बजाय, दूसरों के प्रति अपनी सदभावना को बहार आने दें और उसे चमकने दें।

अगला नियम जिसका पालन किया जाना चाहिए वह है आत्म-अनुशासन । यदि आप इसका अभ्यास करते हैं, तो यह भी आपको एक सुखी और सफल जीवन प्राप्त करने में मदद करेगा।

आप पाएंगे कि यदि आप अनुशासित हैं, तो आपका जीवन आसान हो जाता है। इसके पीछे एक बहुत अच्छा कारण है। जीवन का अर्थ अक्सर आपकी राह में आईं कठिनाइयों से लड़ना होता है, चाहे वे कितने भी मुश्किल क्यों न हों।

सोचिए अगर आपके साथ झगड़ा होने पर आपने अपने सभी दोस्तों को छोड़ दिया तो क्या होगा। थोड़े ही समय में, आपके पास कोई दोस्त नहीं होगा, और ऐसा होने पर आपका जीवन और भी कठिन बन जाएगा ।

दूसरी ओर, यदि आप अपने दोस्तों के साथ रहने और उनके साथ कठिनाइयों के बारे में उनसे बात करने के लिए आत्म-अनुशासित हैं, तो न केवल आप इस रास्ते में बहुत कुछ सीखेंगे, बल्कि आप दोस्तों को भी साथ रखेंगे।

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 2

एक खुशहाल जीवन के लिए, अन्य लोगों के साथ ईमानदार रहें और असफलता का सकारात्मक तरीके से सामना करना सीखें।

बहुत से लोग यह जानते हुए भी वादे कर देते हैं कि वह कभी उस वादे को निभा नहीं पाएँगे या उस पर काम नहीं कर सकेंगे । उदाहरण के लिए हम सभी ने डिनर पार्टियों में अन्य व्यक्ति को किसी चीज़ का या कोई काम करने का वादा किया है , और फिर उस पर काम करने या वह चीज़ देने के बारे में सोचा तक नहीं ।

वादों को तोड़ना बुरी आदत है। यह हमें एक खुशहाल जीवन से दूर ले जाता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि हर बार आप जो वादा करते हैं अगर उसे पूरा नहीं करते हैं, तो दूसरों को निराशा होगी। और इससे आपके द्वारा छोड़ी गई एकमात्र धारणा यह रहेगी या बनेगी कि आप अविश्वसनीय हैं।

इसके बजाय, आपको ऐसे दृष्टिकोण को अपनाने की कोशिश करनी चाहिए जो आपके जीवन में ईमानदारी को केंद्रीय या मुख्य हिस्सा बनाता है।

उस पर नजर रखें। इस चीज़ का हिसाब करें कि आप विरोध से बचने के लिए या खुद को पसंद करवाने के लिए कितनी बार झूठे वादे कर देते हैं ।

अगला चरण एक पूरे सप्ताह के लिए पूरी तरह से ईमानदार होने के लिए खुद को समर्पित करना है। सरल भाषा में कहें तो मुख्य उद्देश्य अपने शब्दों पर टिके रहने का है, चाहे वह खुद के साथ कहे गए हो या दूसरों के साथ।

सबसे बुनियादी स्तर पर, इसका मतलब है कि यदि आप एक प्रतिबद्धता बनाते हैं तो आपको उससे चिपकना होगा, भले ही किसी और को इसके बारे में पता न हो।

आपको आश्चर्य होगा कि आप अपने द्वारा किए गए वादों को निभाने के बाद कितने खुश होंगे !

एक और बुनियादी नियम है जो वास्तव में ख़ुशी को आपके जीवन का हिस्सा बनाने में बहुत उपयोगी साबित है: विफलता और कठिनाइयों का सामना करना सीखें। यह सब उतना नकारात्मक नहीं है जितना लगता है; वास्तव में, कठिन अनुभव और मुश्किल समय आपको सबसे अच्छा सबक सिखाते हैं।

bundle-pack-sale-hindipdflibrary

उन लोगों के जीवन पर नज़र डालें जिन्होंने गंभीर बीमारी को सहन किया और उससे ठीक हुए हैं । लेखक के अनुभव में, यह वो लोग हैं जो जीवन में बाद में सबसे खुशहाल और स्वस्थ रहे । ऐसा इसलिए है क्योंकि उन्होंने सीखा कि सबसे कठिन परिस्थितियों में खुद की देखभाल कैसे करनी है, और इसलिए उन सबको जीवन की गहरी समझ है।

इस सब के लिए एक सरल ट्रिक है: सीधे शब्दों में कहें, तो जीवन तब बेहतर होता है जब आप जोखिम उठाते हैं और पूरी तरह से उसे जीते हैं। आप शायद कईं बार असफल हो सकते हैं, लेकिन यह उबाऊ औसत दर्जे का जीवन जीने से कहीं बेहतर है।

मान लेते हैं कि आप एक सर्जन बनने का सपना देखते थे, लेकिन परीक्षा में असफल होने से डरते थे। या शायद आप चिंतित थे कि आप नौकरी के दबाव का सामना नहीं कर सकते। अगर ऐसा है, तो आप डर के कारण अपने सपनों के करियर को खो सकते हैं और उससे बहुत दूर हो उसके बारे में सोच कर परेशान हो सकते हैं ।

लेकिन, अगर आपने कोशिश की होती, तो शायद आप वास्तव में एक सर्जन बनने में कामयाब रहे होते । और यदि आप उस राह में कुछ समय के लिए असफल हो जाते हैं तो क्या हुआ? उस जैसी “असफलताएं” वास्तव में समृद्ध अनुभव हैं जिन्हें बाद में जीवन में अच्छे उपयोग के लिए रखा जा सकता है – और अक्सर इससे अपने वैकल्पिक कैरियर मार्ग को खोजने में मदद मिलती है !

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 3

एक सार्थक जीवन के लिए आवश्यक है की आप ज़रूरी चीजों पर ध्यान केन्द्रित करें , लेकिन इसके साथ साथ यह भी ध्यान रखें की आप अपने आप को पुरस्कृत करना न भूलें ।

जीवन कभी-कभी थोड़ा कठिन और तेज़ हो सकता है, यह सच है। यदि आप पाते हैं कि दिन तेजी से गुजर रहे हैं और ऐसा लगता है कि आपके पास सांस लेने के लिए एक पल भी नहीं है, तो यह एक संकेत है कि कुछ बदलने की जरूरत है।

विशेष रूप से, आपको अपनी प्राथमिकताओं को क्रम में लाने की आवश्यकता है। अन्यथा, आप पाएँगे की अन्य लोगों की माँगें और अनुरोध आपके जीवन को खा जाएँगे ।

इन सबसे ऊपर, यदि आप अपने लिए आवश्यक और महत्वपूर्ण कार्य करते हैं, तो परिणामस्वरूप आपका जीवन और अधिक सार्थक हो जाएगा।

एक पुरानी चाईंनीज़  कहानी है जो वास्तव में इसी विचार पर काम करती है। कहानी यह है कि एक बार एक तलवार बनाने वाला था जो इतना प्रतिभाशाली था कि उसे चीन के शासकों के लिए तलवारें बनाने और चलाने काम दिया गया था। उनमें से एक राजा उसके हथियारों से इतना प्रभावित था कि वह तलवार बनाने वाले के पास गया और उससे पूछा कि उसकी सफलता का राज़ क्या है।

राजा को बहुत आश्चर्य हुआ जब उस तलवार बनाने वाले ने जवाब दिया, क्यूंकि राजा को उम्मीद थी की वह उसे अपने एक गुप्त और रहस्यमय कौशल के बारे में बताएगा । जबकि तलवार बनाने वाले ने केवल यह जवाब दिया कि उसने अपना जीवन अपने काम के लिए समर्पित कर दिया है और यही उसकी सफलता का राज़ है । पिछले 20 वर्षों से उसने हर एक पल अपनी कला में महारत हासिल करने में बिताया है ।

यह सीख आज के समय में बिलकुल सच है ।

विश्व प्रसिद्ध बास्केटबॉल खिलाड़ी माइकल जॉर्डन के बारे में जानें । उन्होंने अपना सारा समय अपने खेल को समर्पित किया | वह खुद इसके अलावा कुछ नहीं करते थे चाहे वह अपने कॉन्ट्रैक्ट को लेकर बात करना हो , अपने कपड़ों को खरीदना और देखना हो या कोई अन्य कार्य हो , इस सबके लिए उनके पास असिसटेंट और अन्य लोग थे | वह सिर्फ और सिर्फ अपने खेल पर ध्यान केन्द्रित रखते थे और उसमें सुधार करते थे और यही कारण है उनके महान बनने का | 

इसके साथ ही, यदि आप ध्यान के मार्ग पर अत्यधिक चलते हैं, तो आप पाएंगे कि यह थोड़ा थका देता है। यहां तक ​​कि सबसे अधिक पेशेवर लोग और हस्तियां भी सिर्फ काम के माध्यम ही अपने जीवन को परिभाषित नहीं करते ।

जीवन के अर्थ को समझने और उसे जीने में अन्य क्षेत्रों से भी काम आते हैं । गहरी दोस्ती और रिश्ते आपकी इसमें मदद भी करेंगे, और इसी के साथ आपको खुद को आराम देने का समय भी मिलेगा।

इसीलिए यदि सार्थक जीवन के लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करना अगर आपको जीवन में आगे लेकर जाएगा , इसी के साथ अपने आप को नियमित रूप से समय देना आपको जीवन के अन्य सार्थक पहलुओं का आनंद लेना सिखाएगा । आपका परिवार निश्चित रूप से इसके लिए आपको धन्यवाद देगा!

थोड़े अंतराल के बाद अपने लिए समय निकालने का भी एक लाभ है: आपके तनाव का स्तर कम हो जाएगा। इसलिए आप अपने आप को खुश और स्वस्थ पाएंगे। और इस सबसे निश्चित रूप से ख़ुशी मिलेगी ।

लेकिन खाली समय अपने आप कहीं से भी प्रकट नहीं होता है। अपने साप्ताहिक शेड्यूल में नियमित खाली समय को शामिल करना सुनिश्चित करें। इसके लिए एक शब्द है: अवकाश । मूल रूप से, ये चिंतन और प्रार्थना के लिए समर्पित धार्मिक छुट्टियां होती थीं। लेकिन यही सिद्धांत अभी भी लागू होता है: आपको जीवन में आराम करने और उस पर विचार करने के लिए समय चाहिए।

व्यावहारिक रूप से, इसका मतलब यह है कि आपको लगभग दो से तीन घंटे की लंबाई वाले अपने अवकाश बनाने का लक्ष्य रखना चाहिए और आपको उन्हें पूरे सप्ताह में वितरित करना चाहिए।

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 4

याद रखें कि बच्चों की नकल करके और अपने शरीर की अच्छी देखभाल करके आप अपने जीवन का आनंद ले सकते हैं।

बचपन में एक निश्चित जादू होता है जिसे हम बड़े होते होते आसानी से भूल जाते हैं। ज़रा एक बार सोचिए कि बच्चे रोटी कैसे खाते हैं। उनमें से कई बच्चे सीधा बीच के भाग से शुरू करते हैं, जिससे रोटी का नरम हिस्सा वो पहले खा ले और बाकी का बचा भाग अलग कर देते हैं ।

एक अभिभावक यानी माँ-बाप के रूप में, आप उस तरह के व्यवहार को थोड़ा कष्टप्रद या गुस्सा करने वाला मान सकते हैं।

लेकिन वास्तव में यह उस बच्चों को सबसे ज्यादा खुशी देता है।

बड़ी उम्र वाले व्यक्ति के रूप में, हमें जीवन से प्यार करने के लिए बच्चों की नकल करनी चाहिए।

उन सभी ऊर्जाओं के बारे में सोचें जो बेकार चीजें करने में बर्बाद हो जाती है जिस से हम नफरत करते हैं – चाहे वह बिलों का भुगतान कर रहा हो, अलमारी का आयोजन कर रहा हो, रिज्यूमे को अपडेट कर रहा हो, टैक्स के फॉर्म को भरना हो या बस चिंता करना हो । ये बातें सिर्फ जीवन के आनंद को खत्म करती हैं।

कहने की जरूरत नहीं है, उन चीजों में से कुछ का किया जाना ज़रूरी है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप उन पर ज़रूरत से ज्यादा ध्यान का निवेश करें ।

अपने ध्यान को इन दिनों के कार्यों से दूर रखने के लिए एक अच्छी रणनीति है, अपने आप को यह याद दिलाना कि आप वास्तव में क्या करना पसंद करते हैं।

और अगर आप यह याद रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं कि आपको क्या पसंद है, तो बच्चों से थोड़ी प्रेरणा लें। अपने भीतर के बच्चे के साथ फिर से जुडें । आइसक्रीम खाना, स्केटिंग करना, क्रिकेट खेलना, कपड़े पहनना, या अपने पालतू जानवरों के साथ खेलना ये सभी ऐसी गतिविधियाँ हैं जिनका आप बिना किसी सोच के कभी भी और किसी भी उम्र में आनंद ले सकते हैं ।

अपने जीवन का आनंद लेने के बारे में सोचने के लिए एक और महत्वपूर्ण पहलू है: आपको अपने शरीर की अच्छी देखभाल करनी होगी।

प्राचीन रोम में, लोगों को अच्छी तरह से पता था कि एक स्वस्थ मन वास्तव में केवल तभी संभव है जब शरीर भी स्वस्थ रहे। यह आज भी सच है, खासकर यदि आप जीवन का आनंद लेना चाहते हैं।

निश्चित रूप से, यदि आपका शरीर स्वस्थ है, तो आप अधिक समय तक जीवित रहने की संभावना रखते हैं।

हार्वर्ड विश्वविद्यालय का एक अध्ययन इस बात का सबूत है । इसमें उन्होंने अपने 18000 स्नातकों के जीवन को देखा, और इस बात पर विशेष ध्यान दिया कि व्यायाम ने उनके जीवन पर कैसा प्रभाव डाला । अध्ययन से निष्कर्ष निकला कि व्यायाम के प्रत्येक घंटे से लोगों ने अपने जीवन काल में औसतन तीन घंटे जोड़े।

इसलिए आपको भी अपने शरीर की देखभाल के लिए व्यायाम का उपयोग करना चाहिए। इसके लिए आपको गंभीर कसरत या कुश्ती करने की जरूरत नहीं है, अपने दिनचर्या में ट्रेडमिल पर चलने को शामिल करना भी आपको स्वस्थ जीवन जीने में मदद करेगा !

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 5

याद रखें कि चूंकि जीवन एक प्रक्रिया है, इसीलिए केवल लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करना अनुत्पादक हो सकता है।

आजकल लोगों को लक्ष्य-उन्मुख या( Goal- Oriented)  होने का जुनून सवार है। उन्हें लगता है कि परिभाषित उपलब्धियाँ उनके जीवन को पूर्ण और सफल बना देंगी – कि किसी भी तरह से एक नया रिश्ता, एक प्रमोशन , या एक फैंसी घर या कार उन्हें खुश कर देगी।

वह सब गलत है और अगर सच कहें तो यह सब बकवास है ।

वास्तव में, प्रक्रिया ही है जो लक्ष्यों को प्राप्त करने में काम आती है और जो वास्तव में उपयोग की जाती है। यह हमें विकसित और परिपक्व होने की अनुमति देती है।

यह उसी सामान हुआ की , जैसा कि अगर आप एक नेता बन गए या आप माता-पिता बन जाते हैं, तो आप महत्वपूर्ण कौशल अपने आप सीख जाएँगे जो आपके जीवन को समृद्ध बनाएँगे। ऐसा नहीं है, असल में बड़िया नेता बनने के सफ़र में आप कौशल सीखेंगे ।

bundle-pack-sale-hindipdflibrary

व्यक्तिगत विकास के लिए यह दृष्टिकोण इस चीज़ को भी प्रभावित करता है कि आपको उपलब्धियों का जश्न कैसे मनाना चाहिए। बड़े परिणाम मिलने पर ही जश्न मनाने के बजाय, वास्तव में पूरी प्रक्रिया को स्वीकार करने की कोशिश करें, और इसने आपको कैसे आकार दिया है इसका जश्न बनाएं ।

मान लेते हैं कि आप ड्राइव करना सीख रहे हैं और आपने अपना टेस्ट पास कर लिया है। बेशक आपको परीक्षक पर आपके द्वारा दिए गए इंप्रेशन को और अपने लाइसेंस को अर्जित करवाए जाने पर खुद होना चाहिए और इसका आनंद लेना चाहिए , लेकिन इसके साथ आपको इस प्रकिर्या का भी आनंद लेना चाहिए । जिस तरह से, आपने अपने और दूसरों के लिए ज़िम्मेदारी ली है, आपने स्वतंत्रता प्राप्त की है, और आपने दूसरों का साथ देने की अपने सफ़र में महारत हासिल की है ।

सकारात्मक परिवर्तन का एक मुख्य अंश आत्म-जागरूकता भी है।

लेखक को खुद अपने पूरे जीवन काल में इसे अपने साथ रखना पडा और इसे सीखते रहना पडा ।

रेडियो और टेलीविज़न पर बोलने के लिए उन्हें हमेशा आमंत्रित किया जाता था। इसने उन्हें एक वास्तविक चर्चा दी। लेकिन फिर उन्होंने वास्तव में जो कुछ कहा, उसे फिर से सुना और अपने शब्दों का विश्लेषण किया। उन्हें यह पता चला कि वह बहुत तेजी से बोल रहे थे । जो भी उन्होंने कहा वह लगभग समझ से बाहर था।

सकारात्मक बदलाव को बेहतर बनाने और प्रभावी बनाने के लिए, वह जानते थे कि उन्हें उन वास्तविक मुद्दों से रूबरू होना था जिन्हें वह सुधारना चाहते थे। उनका समाधान ऑनलाइन रूप से सार्वजनिक बोलने वाले पाठ्यक्रमों के लिए साइन अप करना था, साथ ही एक वक्ताओं के संघ में शामिल होना था।

उनकी सार्वजनिक बोलने की कला में जल्द ही सुधार हुआ और, इसकी वजह से उन्हें, जल्द ही पेशेवर सफलता मिली।

आपको भी यही तरीका अपनाना चाहिए। इस सफ़र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा कमजोर क्षेत्रों को पहचानना है। उनके प्रति जागरूक होना ही सुधार का पहला कदम है!

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 6

समय के मूल्य को पहचानें और अपनी भावनात्मक प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित करना सीखें।

यदि कोई शिकायत या सफल न हो पाने का कारण है जिसे आप ज्यादा से ज्यादा लोगों से सुनेंगे तो वह है की उनके पास पर्याप्त समय नहीं है। हम सभी इस तरह से महसूस करते हैं, और फिर भी हम दिन के कुछ घंटे फिल्मों को देखने या फेसबुक चलने में व्यर्थ कर देते हैं ।

यह एक निश्चित संकेत है कि हमें समय प्रबंधन के लिए एक बेहतर दृष्टिकोण की आवश्यकता है।

आपको पहली चीज यह महसूस करनी होगी कि समय एक कमोडिटी या वस्तु है। और इससे भी ज्यादा, यह बहुत अनमोल है।

अधिकांश लोग जीवन का इस तरह से आनंद लेते हैं जैसे उनके पास अनंत समय है । इसलिए लोग अक्सर शिथिल या काम को टालने लगते हैं । और आप आश्चर्यचकित रह जाएंगे कि आप लाइफ का कितना समय फ़ोन चलाने, व्यर्थ की बातें करने और खाली बैठने में बर्बाद करते हैं ।

इस प्रवृत्ति से निपटने के लिए, आपको समय प्रबंधन की आवश्यकता है।

हममें से हर किसी को उस समय की सराहना करने की ज़रूरत है जो हमारे पास है और हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि हम उसी के अनुसार कार्यों की योजना बनाएँ।

इस सबके लिए सबसे अच्छी शुरुआत है की आप इस चीज़ पर विचार करें की कौन सी गतिविधियाँ आपके लिए महत्वपूर्ण हैं और उन्हें अपनी दिनचर्या में शामिल करें। मेडिटेशन, नया गुण सीखना, घर की देखभाल या प्रोजेक्ट वर्क सभी को शेड्यूल में जगह मिल सकती है। आपको केवल यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप अपने दिनचर्या में शामिल की गयी इन नई चीजों को करते रहें और बाकी चीजों को इन्हें प्रभावित न करने दें ।

समय प्रबंधन खुश रहने का एक तरीका है। लेकिन अगर आप अपनी भावनाओं के प्रबंधन के साथ इस दृष्टिकोण को मिलाते हैं, तो आप खुद को हमेशा खुश पाएँगे ।

इसके बारे में सोचें: यदि आप दुनिया में नकारात्मक भावनाओं को उजागर करते हैं, तो आप न केवल समय की बर्बादी करेंगे, बल्कि यह सभी प्रकार के नकारात्मक परिणामों को भी जन्म देगा।

नकारात्मक रहने से इतने सालों में आपने जितने मित्र बनाए हैं वो सब पल में चले जाएँगे और आप उन्हें हमेशा के लिए खो सकते हैं ! 

लेकिन नकारात्मक भावनाएं समय प्रबंधन (time management) को भी प्रभावित करती हैं। यदि आपके भीतर बहुत अधिक नकारात्मकता घूम रही है, तो यह शिथिलता यानी काम को टालने की आदत के रूप में प्रकट होगी और आपके लिए समस्या बनी रहेगी । 

अपने दोस्त या साथी के साथ होने वाली लड़ाई या बहस के बारे में सोचें जिसमें उन्होंने तो वो बात अगले ही दिन भुला दी थी, लेकिन आप कईं दिनों तक उस बात को अपने दिल में लेकर बीते रहे और उससे आपके मन में नकारात्मक भाव ने जन्म लिया और साथ साथ आपका समय भी बर्बाद हुआ । 

चलिए इस सबको एक साथ जोड़ते हैं । यदि आप अपनी भावनात्मक प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित करते, तो आपके पास ज़रूरी चीजों के लिए अधिक समय होता, और इससे आप खुश रहते ।

इसलिए जब किसी व्यक्ति या परिस्तिथि पर आपको गुस्सा आने लगे, तो जवाब देने की कोशिश करने से पहले 50 या 20 तक गिनें। 20 या 50 तक की गिनती यह सुनिश्चित करेगी कि आपकी प्रतिक्रिया शांत और सही हो ।

और अगर आपकी भावनाएं अब भी उस चीज़ के लिए तीव्र हैं, तो आपको शांत होने के लिए कम से कम 30 मिनट चाहिए; शायद थोड़ा ध्यान लगाना भी मदद करे ।

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 7

प्रकृति से जुड़ना और अपने आवागमन का उपयोग करना खुशी और सफलता सुनिश्चित करेगा।

यदि आप किसी शहर में रहते हैं, तो आपको इस भाव से परिचित होंगे की : सब कुछ एक ही बार में होता है। यही कारण है कि यह हमें अतिभारित या ज्यादा बर्डन देने वाला लगता है। लेकिन चीजें पहले से ऐसी नहीं थी । एक अखबार में कितनी जानकारी है, इसके बारे में सोचें। यदि आप सत्रहवीं शताब्दी के भारत में रहते, तो इतनी जानकारी के संपर्क में आने में आपका पूरा जीवन लग जाएगा।

इस सबको देखते हुए, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने मस्तिष्क को थोड़े थोड़े समय बाद आराम दें और आराम करें।

विश्राम, आराम और खुशी को बढ़ावा देने का एक शानदार तरीका प्रकृति से जुड़ना है। रोबिन शर्मा स्वयं इसके बहुत बड़े प्रशंसक है।

अक्सर, पुरे हफ्ते लेक्चर देने , किताबों पर हस्ताक्षर करने और टीवी शो में शामिल होने के बाद वह इस सबसे एक ब्रेक लेते हैं । उनके लिए एक सुंदर पार्क या जंगल मन को आराम देने के लिए अनुकूल स्थान हैं। पेड़ों के माध्यम से हवा की सरसराहट की आवाज उन्हें ध्यान की स्थिति में लाने के लिए पर्याप्त है।

यदि आप भी इस तरह के माइंड स्पेस में प्रवेश कर सकते हैं, तो आप पाएंगे कि आपकी प्राथमिकताएँ स्पष्ट हो गई हैं। अर्थहीन कार्यों से जुड़ी जल्दी की भावना बस गायब हो जाएगी।

प्रकृति का एक और बड़ा पहलू है: यह वास्तव में रचनात्मकता को प्रोत्साहित करने में मदद कर सकता है। इस चीज़ में कोई संदेह नहीं है कि आइजैक न्यूटन ने गुरुत्वाकर्षण की खोज तब की, जब वह एक सेब के पेड़ के नीचे डेरा डाले हुए थे ।

यह प्रकृति के करीब आने के प्रयास की तरह लग सकता है। लेकिन आप अपने दैनिक आवागमन में थोड़ी सी हरियाली को शामिल करके इसे आसान बना सकते हैं, उदाहरण के लिए किसी पार्क में थोडा समय बीताना।

और जब हम कहीं जाने के विषय पर बात कर रहे हैं, तो याद रखें कि इसका उपयोग, सफलता के लिए भी किया जा सकता है।

औसत आवागमन 30 से 90 मिनट के बीच होता है। और यह पुरे हफ्ते में बहुत समय खर्च करवा सकता है।

bundle-pack-sale-hindipdflibrary

सुनिश्चित करें, की आप ट्रेन की खिड़की के बाहर देखते हुए या अन्य कारों पर चिल्लाते हुए समय की बर्बादी न करें।

यदि आपको पास रेडियो या स्मार्ट फोन है, तो आप उस समय का उपयोग शैक्षिक ऑडियो बुक या पॉडकास्ट सुनने के लिए कर सकते हैं। और यदि आप सार्वजनिक परिवहन पर हैं, तो आप मेडिटेशन से लेकर पढ़ने तक, सभी प्रकार की रचनात्मक चीजें कर सकते हैं।

यदि आप आत्म-सुधार के लिए अपने आवागमन का उपयोग करते हैं, तो आप जल्द ही लाभ प्राप्त करना शुरू कर देंगे। उन घंटों को बेकार और दिवास्वप्न बिताने का वास्तव में कोई कारण नहीं है!

Who will Cry When You Die Hindi – Lesson 8

शिकायत करने के बजाय, इस बात पर सक्रिय रूप से ध्यान केंद्रित करें कि आप दुनिया में क्या ला सकते हैं या दुनिया वालों के लिए क्या कर सकते हैं।

हम सभी बहुत खुश हो जाते हैं जब हम किसी चीज़ क हासिल कर लेते हैं, लेकिन कभी-कभी यह दुसरे रूप से भी हम पर असर दाल सकती है , आप ऐसे व्यक्ति को भी जानते होंगे जो हमेशा रोता है, शिकायत करता है कि उसके पास काम करने या नई भाषा या कौशल सीखने के लिए पर्याप्त समय नहीं है।

लेकिन ऐसी शिकायत का वास्तविक दुनिया से कोई लेना-देना नहीं है। यह सिर्फ एक नकारात्मक मानसिकता का परिणाम है।

यदि आप वह व्यक्ति हैं, तो आपको यह जानकर प्रसन्नता होगी कि बस थोड़ा और सक्रिय होने से, आप इस सब से बाहर निकल सकते हैं।

इसलिए अगर आपको लगता है कि आपके दिन में एक घंटे का समय और होना चाहिए, तो बस सुबह रोज़ से एक घंटा पहले ही उठ जाएं।

यही सिद्धांत लागू होता है अगर आपको लगता है कि अर्थव्यवस्था आपके खिलाफ है या पर्यावरण प्रदूषित है।

प्रदूषण के बारे में पढ़ कर या उसे जानने के बाद काम करने से अच्छा, आप सक्रिय recycle कर सकते हैं जिससे कुछ सुधार होगा ।

और अगर आपको लगता है कि अर्थव्यवस्था आपकी कंपनी में आपके कैरियर के विकास को रोक रही है, तो अपने सीवी या रिज्यूमे को सुधारें और अपने पोर्टफोलियो को दूसरी कम्पनी में भेजने के लिए तैयार होना शुरू करें। यदि, आप कहते हैं, आप एक डिजाइनर हैं, तो बैठ जाइए और कुछ नए पोस्टर या ऑब्जेक्ट डिज़ाइन तैयार कीजिए।

यह पहले चरण महत्वपूर्ण हैं। एक बार जब आप देखते हैं कि परिवर्तन संभव है, तो आपको पता चलेगा कि शिकायत करना ऊर्जा को व्यर्थ करना है।

सफल होने की राह में एक और कदम दुनिया में अपने स्वयं के मूल्य को पहचानना है। इसलिए जब आप अपना व्यवसाय चुनते हैं, तो इस बारे में सोचें कि आप दूसरों के जीवन में क्या योगदान दे सकते हैं।

अपनी कीमत जानने से आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं की क्या आप अच्छा वेतन पा रहे हैं और अगर नहीं तो यह आपको संतुष्टिदायक नौकरी पाने के लिए प्रेरित करेगा । आखिरकार, आपको पता चल जाएगा कि आपके प्रयास वास्तव में दुनिया में कुछ सकारात्मक जोड़ रहे हैं।

सर्जन और डॉक्टर इस चीज़ के सही उदाहरण हैं। ऐसा नहीं है की एक सर्जन आंतरिक रूप से किसी अन्य पेशेवर की तुलना में अधिक चतुर या उनसे ज्यादा अच्छा है।

लेकिन ऐसा इसलिए है क्यूंकि सर्जनों ने अत्यधिक विशिष्ट कौशल पर काम करने में अनगिनत घंटे बिताए हैं। उनकी विशेषज्ञता उन्हें योगदान करने की अनुमति देती है जो महत्वपूर्ण और जीवन-परिवर्तनशील हैं। यह बताता है कि सर्जन को समाज द्वारा इतना मूल्यवान क्यों माना जाता है।

शुरुआत करने के लिए अभी भी देर नहीं हुई है। आप भी, दुर्लभ कौशलों को प्राप्त करने पर काम कर सकते हैं जो आपके समुदाय में आवश्यक हैं। सही रूप से सोचने के लिए पढ़ना, अध्ययन करना और खुद को तैयार करना शुरू करें।

चलिए अब उस चीज़ पर फिर से लौटते हैं जहाँ से यह पोस्ट शुरू हुआ था । अगर आप यह सब करते हैं और इस किताब में दी गयी चीजों का पालन करते हैं तो जब आप मर जाते हैं तो दूसरों का रोना निश्चित हो जाता है क्यूंकि आपने अपना जीवन स्वयं के सर्वोत्तम संभव संस्करण के रूप में जीया है। यह काफी स्वाभाविक रूप से उभरेगा यदि आप अपना समय बचाते हैं, अपने जीवन के लक्ष्यों पर ध्यान केंद्रित करते हैं, मज़े करते हैं और जीवन को उसी तरह जीते हैं जैसे इस किताब में बताया गया है ।

Who will Cry When You Die Hindi – Summary अंतिम सारांश

इस किताब का प्रमुख संदेश:

अपने आप से पूछें कि जब आप मरेंगे तो कौन रोएगा। यदि आपको लगता है कि कुछ ही लोग आपको याद करेंगे, तो कुछ बदलाव लाने का समय आ गया है। अपना सर्वश्रेष्ठ देने और अन्य लोगों के जीवन को समृद्ध बनाने के लिए थोड़ा प्रयास करना पड़ता है, लेकिन यह सुख दाई साबित होगा। आपको व्यक्तिगत पूर्ति खोजने और अपने जीवन को उसके पूरे मूल्य पर जीने का लक्ष्य रखना चाहिए। आप अपने समय का उत्पादक रूप से उपयोग करके और जो आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण है उसे पहचान कर एक सक्रिय परिवर्तन कर सकते हैं। आप का सबसे अच्छा संस्करण वह है जो निश्चित रूप से दूसरों द्वारा याद किया जाएगा। 

कार्रवाई की सलाह:

कुछ जर्नलिंग का प्रयास करें। 

अपनी स्वयं की वृद्धि की यात्रा में आपकी मदद करने के लिए एक पत्रिका या डायरी रखना जिसमें आप सब लिख सकते हैं , उसे रखना एक शानदार तरीका है। ध्यान दें कि प्रत्येक दिन क्या होता है, और उस पर विचार करें। आप उन पहलुओं पर कैसे सुधार कर सकते हैं जिसमें आप निपुण नहीं हैं ? जैसे ही आप इस तरह से घटनाओं को संसाधित करते हैं, आप अपनी ताकत और कमजोरियों के बारे में अधिक से अधिक जागरूक हो जाएंगे। यह जागरूकता परिवर्तन और व्यक्तिगत विकास के लिए एक पहला कदम है। एक बार जब आप जानते हैं कि आप क्या सुधार कर सकते हैं, तो आप उस लक्ष्य की ओर जाने के लिए कुछ सकारात्मक रणनीतियों पर काम कर सकते हैं।

Click Here To Download – Who Will Cry When You Die Hindi Pdf

आपके पास हमारे लिए कोई सन्देश है ?

इस वेबसाइट के बारे में क्या सोचते हैं, हमें उसके बारे में जानकार अच्छा लगेगा! किसी भी किताब के बारे में प्रतिक्रिया देने के लिए या अपनी पसंद की किताब पर सारांश के लिए आप हमें hindipdflibrary@gmail.com पर ईमेल कर सकते हैं !

आगे क्या पढ़ें:

Robin Sharma द्वारा The Monk Who Sold His Ferrari 

रॉबिन शर्मा की प्रेरक तकनीकों ने जीवन को बेहतर बनाने के लिए दुनिया भर में अनगिनत लोगों को प्रेरित किया है। इस सबमें उनकी किताब  The Monk Who Sold His Ferrari ने मुख्य भूमिका निभाई है | इस किताब में बताया गया है की आपके जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए प्राचीन प्रथाओं का उपयोग कैसे किया जा सकता है। 

यह कोई साधारण निर्देशात्मक स्व-सहायता सलाह नहीं है। इसके बजाय, यह एक पूर्वकथा है कि कैसे पूर्व-वकील जूलियन मेंटल ने आत्मज्ञान प्राप्त किया। अपने अनुभवों से, आप भी सीखेंगे कि कैसे एक खुशहाल, अधिक पुरस्कृत और प्रबुद्ध अस्तित्व में रहना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top
error: Content of this website is protected !!